Powered by Blogger.

Followers

घनाक्षरी वाटिका |

भारत के सारे पर्व अपनी पौराणिकता की प्रतीकात्मकता  की गरिमा अपने में छिपाये हैं | देश में दुःख दारिद्र्य फैलाने वाली बुराइयां क्या 'नरकासुर' से कुछ कम हैं ? इसी तात्पर्य के साथ-

सारे चित्र 'गूगल-खोज'से साभार) 

नर्क-चतुर्दशी –पर्व
अच्छा क्या है, बुरा क्या है, समझे यह जन-जन,
हंस जैसा बोध औ विवेक सिखालाइये |
भटके हों कहीं कोई,सूझ नहीं रहा पथ,
उन्हें गली गली जा के, पन्थ दिखलाइये ||
दूर हों पाखण्ड सारे,मिटें सारे अन्धकार,
कुछ ऐसी रीति सारे देश में चलाइये ||  
मिटे ‘अन्धकार’ चित्त, ‘ज्योति’ से हो जगमग,
सच्चे ‘ज्ञान-दीप’ हर मन में जलाइये ||१||
नर्कासुर-अनाचार-अत्याचार-भ्रष्टाचार-
दानवों को मार मार, निर्बीज कीजिये |
देख कर दीन-हीन दशा साधन से विहीन,
लोगों पे यों दया कर, मन से पसीजिये ||
दूसरों के लिये जीना सीखें और सिखला के,
भुला कर निज पीड़ा, ‘पर पीड़ा’ पीजिये ||
दीपक जला के कुछ, ‘उजाले के तीर’ चला,
‘अँधेरा’ है ‘दैत्य’ इसे आज मार दीजिये ||२||

कोई हो निराश कहीं, कुण्ठा-ग्रस्त और त्रस्त,
गुमसुम हो अकेला उसे पास में बुलाइये |
धीरज बंधा के उसे, आशा औ विशवास जगा,
देकर भरोसा सारे दुखोँ को भुलाइये ||
गिर गिर उठें सब लोग चलते ही रहें,
गिराने की सारी पीड़ा, जा के झुठालाइये ||
मन हों वीराने कहीं, ‘पतझर वाले बाग’
वहाँ पे “प्रसून” जैसी खुशियाँ खिलाइये ||३||

Kailash Sharma  – (4 November 2013 at 06:10)  

बहुत सार्थक और लाज़वाब प्रस्तुति...

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक  – (8 December 2013 at 16:53)  

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (09-12-2013) को "हार और जीत के माइने" (चर्चा मंच : अंक-1456) पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Post a Comment

About This Blog

  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP