Powered by Blogger.

Followers

जून 2014 के बाद की गज़लें/गीत(19) पूजा करने चले (‘ठहरो मेरी बात सुनो !’ से)

(सारे चित्र' 'गूगल-खोज' से साभार) 
पूजा करने चले बना के, ऊँची बड़ी इमारत !
बिना प्यार के हो न सकेगी, सच्ची कभी इबादत !
बजा के घंटी, चढ़ा मिठाई, भजन-कीर्त्तन करते !
और कई तो रगड़ के माथा, हैं धरती पर झुकते !!
बिना ध्यान के, चंचल मन से, पाठ किया करते हैं !
बिना आस्था-श्रद्धा-निष्ठा, पढ़ते कथा-तिलाबत !
बिना प्यार के हो न सकेगी, सच्ची कभी इबादत !!1!!
खुदा से धन औ ऐश माँगते, पूरी करने मन्नत !
बने भिखारी, रिरियाते हैं, करें खुशामद-मिन्नत !!
थोड़ा दे कर, मिले अधिक यह, ललक है कैसी मन में ?
हुये मज़हबी ज्यों व्यापारी, मज़हब बने तिजारत !
बिना प्यार के हो न सकेगी, सच्ची कभी इबादत !!2!!
माटी के भी सनम भले हैं, अगर लगन है सच्ची !
वरना पत्थर तो पत्थर है, प्रीति अगर है कच्ची !!
टूट चुके ईमान, भटकते हुये यक़ीन को लेकर-
मन में लाखों ख्वाहिश पाले, करने चले जियारत !
बिना प्यार के हो न सकेगी, सच्ची कभी इबादत !!3!!
इश्क़ बिना अरदास-प्रार्थना, फलती नहीं कभी भी !
बिना प्यार बलिदान किस तरह, होगी सफल मसीही ??
पैमाने  मानवता  के  हैं, टूटे - टूटे  दरके !
रह्मानों में शैतानों की, जब से हुई मिलावट !
बिना प्यार के हो न सकेगी, सच्ची कभी इबादत !!4!!


Post a comment

About This Blog

  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP