Powered by Blogger.

Followers

!इन्हें पहँचानिये!(१) ‘प्यास’ जगाने वाले लोग |


इस समय अभी विप्लव शान्त नहीं हुआ है, डाल दी गयी 'राख' के 

भीतर भीतरसुलग रही 'आग' के भडकाने का डर बना हुआ है | धीरे 

धीरे बुझती इस 'आग'के साथ रचानाओं में भी आनुपातिक शीतलता

दिखाई देती है | 
(सारे चित्र 'गूगल-खोज' से साभार)   

!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!
जब माँगो तो ‘मजबूरी’ कह,  ‘नज़र’ बचाने वाले लोग |
दिखा के ‘जल से भरी सुराही’, ‘प्यास’ जगाने वाले लोग ||

======================================
‘हमदर्दी के ‘स्वाँग’ में माहिर, नाटक रोज़ रचाते हैं |
‘माल मुफ़्त का’ पा जायें तो, उसको तुरत पचाते हैं ||
‘मजमे’, ‘जलसे’, ‘जुलूस’, वाले, ‘तथाकथित’ कुछ ‘नेता’ हैं-
केवल ‘भाषण’ में ‘निर्धनता’ दूर भगाने वाले लोग ||
जब माँगो तो ‘मजबूरी’ कह,  ‘नज़र’ बचाने वाले लोग |
दिखा के ‘जल से भरी सुराही’, ‘प्यास’ जगाने वाले लोग ||१||

 

‘बड़े सुहाने रंग स्नेह के’, ‘मन’ पर चढ़े उतार दिये |
‘आदर्शों की तस्वीरों’ के ‘सारे अक्स’ बिगार दिये ||
‘छल की कूँची’, ‘रंग कपट के’, ‘चित्रकार शैतान’ हैं ये-
‘झूठ की आकृति’ उभार कर के, ‘चित्र बनाने वाले लोग ||
जब माँगो तो ‘मजबूरी’ कह,  ‘नज़र’ बचाने वाले लोग |
दिखा के ‘जल से भरी सुराही’, ‘प्यास’ जगाने वाले लोग ||२||


‘प्रेम के कई परिन्दों’ के हैं ‘पर’ काटे ‘लाचार’ किये |
‘अमन’ के सभी ‘कबूतर’ मारे, ‘प्यार के खंजन ‘ मार दिये ||
’राजनीति के धनुष’, ‘स्वार्थ के हाथों’ में थामे देखो-
‘कूटनीति के पैने पैने तीर’ चलाने वाले लोग ||
जब माँगो तो ‘मजबूरी’ कह,  ‘नज़र’ बचाने वाले लोग |
दिखा के ‘जल से भरी सुराही’, ‘प्यास’ जगाने वाले लोग ||३||


देश में छुपे लोग हैं लाखों, जिन से हारी ‘मक्कारी’ |
‘ठण्डी द्वेष की बुझी राख’ में, तलाश कर के ‘चिनगारी’ ||
‘बोल’ बोल कर ‘अर्थहीन’ कुछ, ‘व्यर्थ विवाद’ उगलते हैं-
‘शान्ति-वन’ में फूँक के ‘हिंसा’, ‘आग’ लगाने वाले लोग ||
जब माँगो तो ‘मजबूरी’ कह,  ‘नज़र’ बचाने वाले लोग |
दिखा के ‘जल से भरी सुराही’, ‘प्यास’ जगाने वाले लोग ||४||


‘अजब सरफिरे’, ‘शान्ति-प्रेम’ से है इनको ‘अलगाव’ हुआ |
‘महक’ से ज़्यादह, ‘चुभन’ से इनको, कितना अजब लगाव’ हुआ ||
‘बड़ी नुकीली सोच’ है इनकी, ‘दर्द’ बाँटने के शौक़ीन-
“प्रसून” के बाग में ‘नागफनी की फ़सल’ उगाने वाले लोग ||
जब माँगो तो ‘मजबूरी’ कह,  ‘नज़र’ बचाने वाले लोग |
दिखा के ‘जल से भरी सुराही’, ‘प्यास’ जगाने वाले लोग ||५||
=========================================

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)  – (13 January 2013 at 06:51)  

चेतना जाग्रत करती हुई बढ़िया पोस्ट!

Post a Comment

About This Blog

  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP