Powered by Blogger.

Followers

मुकुर(यथार्थवादी त्रिगुणात्मक मुक्तक काव्य)(छ)चोरों का संसार(१)चोरों का घर

यह मेरा अपना विचार नहीं है | हज़ारों लोगों से वर्षों से बातचीत में प्राय: सभी कहते हैं कि सभीतो चोर हैं |
सुधारें किसे ! इस काव्य में अपने क्रम में यह सर्ग अपने में एक कटु सत्य है |मुझे विशवास है कि आप इस 
श्रेणी में नहीं हैं |पूरे भारत के खास स्थानों में घूम कर कई ऐसे स्थानों में भी जा पहुंचा जहाँ ऐसे ही लोग मिले |
शैतानों का भी अपना संसार होता है | 
(सारे चित्र 'गूगल-खोज से साभार)


++++++++++
‘यह दुनियाँ’, ‘चोरों का घर’ है |
+++++++++++++++++++++     
'चाहत' की चोरी होती है |
‘राहत’ की चोरी होती है ||
‘किस्मत’ की चोरी होती है |
‘अस्मत’ की चोरी होती है ||
यहाँ ‘लाज’ की चोरी होती है |
‘आवाज’ की चोरी होती है ||
यहाँ ‘प्राण’ चुराए जाते हैं |
यहाँ ‘मान’ चुराये जाते हैं ||
‘हर फन-मौला’ हैं चोर सभी –
हर ओर इन्हीं का आदर है ||
‘यह दुनियाँ’, ‘चोरों का घर’ है ||१||

‘ख़्वाबों’ की चोरी होती है |
‘भावों’ की चोरी होती है ||
‘अनुभव’ की चोरी होती है |
‘वैभव’ की चोरी होती है ||
‘अरमान’ की चोरी होती है |
यहाँ ‘शान’ की चोरी होती है ||
यहाँ ‘दाम’ चुराये जाते हैं |
यहाँ ‘काम’ चुराये जाते हैं |
अब क्या चोरी को बाकी है !
सब को ही चोरों का डर है
‘यह दुनियाँ’, ‘चोरों का घर’ है ||२||

यहाँ ‘छल’ से चोरी होती है |
यहाँ ‘बल’ से चोरी होती है ||
‘सम्बल’ की चोरी होती है |
यहाँ ‘बल’ की चोरी होती है ||
यहाँ ‘तोल’ की चोरी होती है |
यहाँ ‘मोल’ की चोरी होती है ||
यहाँ ‘दान’ चुराये जाते हैं |
‘सम्मान’ चुराये जाते हैं || 
‘चोरों की बस्ती’, चोर सभी-
जिनको मिल जाता ‘अवसर’ है ||
‘यह दुनियाँ’, ‘चोरों का घर’ है ||३||
------------------------------------------


mahendra mishra  – (20 November 2012 at 22:00)  

बहुत बढ़िया प्रस्तुति ...

Post a Comment

About This Blog

  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP